ये मछली दिलाएगी डेंगू मलेरिया जैसी बिमारियों से छुटकारा, जानें क्या है खासियत

18 Mar, 2023

मछली पालन करने वाले पशुपालक गंबूसिया नाम की मछली पालन कर सकते हैं. इस मछली को पालकर इन बीमारियों से छुटकारा पाया जा सकता है.

FasalKranti
Fiza, समाचार, [18 Mar, 2023]

बरसात का मौसम शुरु होते ही सबसे ज्यादा डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया जैसी बीमारियों का प्रकोप बढ़ जाता है. लेकिन मछली पालन करने वाले पशुपालक गंबूसिया नाम की मछली पालन कर सकते हैं. इस मछली को पालकर इन बीमारियों से छुटकारा पाया जा सकता है. इस मछली की एक खासियत होती है कि यह पानी में पैदा होने वाले मच्छर के लार्वा को खा जाती है.


मच्छरों के लार्वा को चट कर जाती है ये मछली
गंबूसिया मच्छरों के लार्वा को चट कर जाती है, मच्छरों का लार्वा पानी के ऊपर तैरता रहता है, इस मछली का मुंह ऊपर की तरफ होता है, जिससे ये लार्वा को खा जाती है. गंबूसिया मछली अंडे नहीं देती, बल्कि बच्चे देती है, जबकि ज्यादातर मछलियां अंडे देती हैं. ये 80-120 बच्चे देती हैं और 24 घंटे में अपने भार का 40 गुना लार्वा खा जाती हैं.


कहीं भी कर सकते हैं पालन
गंबूसिया मछली की सबसे खास बात ये होती है इसे कहीं भी डाल सकते हैं. जबकि दूसरे एक्वेरियम की मछलियों के लिए ऑक्सीजन लगानी होती है, लेकिन इसे किसी भी ड्रम या टब में डाल सकते हैं और जैसे-जैसे इसके बच्चे बढ़ते जाएं इन्हें दूसरी जगह पर डालते जाएं.


नई परिस्थितियों को जल्दी अपनाती है
गंबूसिया लगभग 4-7 सेंटीमीटर लंबाई की छोटी मछलियां होती हैं जो ताजे पानी में पाए जाने वाले विभिन्न जीवों जैसे ज़ोप्लांकटन (पानी के पिस्सू, सतह के कीड़े को खाती हैं. मछलियां नए वातावरण और जलवायु परिस्थितियों के अनुकूल होने में अच्छी होती है.


ऐसे भी बढ़ाती है आय
आपको बता दें गंबूसिया मछली को लोग बड़े चाव से खाते भी हैं. इस वजह से इसकी बाजार में मांग है ही, साथ ही मच्छरों के खिलाफ प्रभावी होने की वजह से अब इसकी मांग दोगुनी हो गई है. इस मछली के उत्पादन से किसान भाई अपना मुनाफा काफी आसानी से दोगुना कर सकते हैं.



ताज़ा ख़बरें

1

सरकार ने म्यांमार दाल आयातकों से रुपया-क्याट प्रत्यक्ष भुगतान प्रणाली का आग्रह किया

2

आईपीएस अधिकारी जी संपत कुमार को दी गई 15 दिन की सजा पर अंतरिम रोक बढ़ी

3

रामलला के सूर्य तिलक का ट्रायल वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल

4

पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज के बयान पर गरिमा मेहरा दसौनी का पलटवार

5

हॉस्पिटल से डिस्चार्ज हुए संत प्रेमानंद जी महाराज, शिष्यों में खुशी की लहर

6

सेन्ट्रल रिजर्व पुलिस फ़ोर्स में घपला, नकली ट्रैक सूट बढ़े हुए दामों में बेचा जा रहा

7

सरकार ने बॉर्नवीटा और दूसरे ड्रिंक या बेवरेज को हेल्दी डिंक की कैटेगरी से हटाने को कह

8

सीएए को लेकर जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने दिया विवादित बयान

9

भाकृअनुप-भारतीय मृदा एवं जल संरक्षण संस्थान, देहरादून ने 71वां स्थापना दिवस मनाया

10

खुदरा मुद्रास्फीति मार्च, 2024 में गिरावट, घटकर 4.85 प्रतिशत हुई


ताज़ा ख़बरें

1

सरकार ने म्यांमार दाल आयातकों से रुपया-क्याट प्रत्यक्ष भुगतान प्रणाली का आग्रह किया

2

आईपीएस अधिकारी जी संपत कुमार को दी गई 15 दिन की सजा पर अंतरिम रोक बढ़ी

3

रामलला के सूर्य तिलक का ट्रायल वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल

4

पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज के बयान पर गरिमा मेहरा दसौनी का पलटवार

5

हॉस्पिटल से डिस्चार्ज हुए संत प्रेमानंद जी महाराज, शिष्यों में खुशी की लहर

6

सेन्ट्रल रिजर्व पुलिस फ़ोर्स में घपला, नकली ट्रैक सूट बढ़े हुए दामों में बेचा जा रहा

7

सरकार ने बॉर्नवीटा और दूसरे ड्रिंक या बेवरेज को हेल्दी डिंक की कैटेगरी से हटाने को कह

8

सीएए को लेकर जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने दिया विवादित बयान

9

भाकृअनुप-भारतीय मृदा एवं जल संरक्षण संस्थान, देहरादून ने 71वां स्थापना दिवस मनाया

10

खुदरा मुद्रास्फीति मार्च, 2024 में गिरावट, घटकर 4.85 प्रतिशत हुई