बाढ़ से प्रभावित हुए ख़रीफ़ सीज़न के बावजूद पंजाब को धान की बंपर पैदावार की उम्मीद

02 Dec, 2023

राज्य कृषि विभाग द्वारा किए गए नवीनतम फसल कटाई प्रयोगों से राज्य की औसत उपज 69.39 क्विंटल प्रति हेक्टेयर सुनिश्चित होती है, जो पिछले वर्ष प्राप्त उपज से 4.60 क्विंटल अधिक है।

FasalKranti
Vipin Mishra, समाचार, [02 Dec, 2023]

अधिकारियों ने कहा कि खरीफ सीजन 2023-24 में जुलाई और अगस्त के दौरान बाढ़ से प्रभावित होने के बावजूद पंजाब को धान की फसल की बंपर पैदावार की उम्मीद है। देश के खाद्य कटोरे के रूप में जाने जाने वाले राज्य में धान का उत्पादन 205 लाख मीट्रिक टन से अधिक होने की उम्मीद है, जिसमें पिछले वर्ष की तुलना में औसत उपज चार क्विंटल प्रति हेक्टेयर से अधिक होगी।

पंजाब कृषि विभाग के निदेशक जसवन्त सिंह ने कहा, ''हम इस साल धान का उत्पादन 205 लाख मीट्रिक टन से अधिक होने की उम्मीद कर रहे हैं।''

राज्य ने 2022-23 में 205 लाख मीट्रिक टन उत्पादन हासिल किया था। इसने 2020-21 में 208 लाख मीट्रिक टन का उच्चतम उत्पादन हासिल किया था। राज्य कृषि विभाग द्वारा किए गए नवीनतम फसल कटाई प्रयोगों से राज्य की औसत उपज 69.39 क्विंटल प्रति हेक्टेयर सुनिश्चित होती है, जो पिछले वर्ष प्राप्त उपज से 4.60 क्विंटल अधिक है।

इस साल जुलाई और अगस्त में राज्य में बाढ़ आने के बावजूद धान की पैदावार में बढ़ोतरी हुई है। धान की बुआई के मौसम में बाढ़ ने पटियाला, संगरूर, रूपनगर, जालंधर, फिरोजपुर और फतेहगढ़ साहिब सहित कई जिलों में कहर बरपाया था, जिससे फसल को व्यापक नुकसान हुआ था।

अधिकारियों ने कहा कि किसानों को एक लाख हेक्टेयर से अधिक भूमि पर खरीफ की फसल को फिर से बोना पड़ा और उत्पादकों ने पीआर 126 - एक छोटी अवधि की धान की किस्म - और पूसा बासमती 1509 को अपनाया।

लेकिन प्रभावित क्षेत्रों में उफनती नदियों के बाढ़ के पानी से छोड़े गए गाद और पत्थरों ने भी धान की फसल की दोबारा रोपाई के लिए उत्पादकों के लिए एक चुनौती पैदा कर दी है।

फसल कटाई प्रयोगों के परिणामस्वरूप, मालेरकोटला जिले में सबसे अधिक 84.13 क्विंटल प्रति हेक्टेयर उपज दर्ज की गई, इसके बाद बरनाला में 81.06 क्विंटल प्रति हेक्टेयर, जालंधर में 77.55 क्विंटल, संगरूर में 76.36 क्विंटल, मोगा में 76.30 क्विंटल, लुधियाना में 76.03 क्विंटल प्रति हेक्टेयर उपज दर्ज की गई। फरीदकोट में 75.10 क्विंटल, कपूरथला में 74.64 क्विंटल, बठिंडा में 72.80 क्विंटल और फतेहगढ़ साहिब में 72.18 क्विंटल।

अधिकारियों ने कहा कि धान की उपज में वृद्धि का श्रेय इस तथ्य को भी दिया जा सकता है कि फसल पर कीट या बीमारी का कोई हमला नहीं हुआ।

इस सीजन में पंजाब में करीब 32 लाख हेक्टेयर में धान की फसल बोई गई।

धान के कुल क्षेत्रफल में से लगभग 6 लाख हेक्टेयर भूमि बासमती की फसल के अधीन थी।

सिंह ने कहा, "हमने बासमती फसल का क्षेत्रफल 20 प्रतिशत बढ़कर 6 लाख हेक्टेयर तक देखा।"

लंबे दाने वाला चावल अमृतसर, तरनतारन, गुरदासपुर, फाजिल्का और अन्य जिलों में उगाया जाता है।


ताज़ा ख़बरें

1

न्यायमूर्ति डीवाई चन्द्रचूड ने सर्वोच्च न्यायालय में आयुष केंद्र का उद्घाटन किया

2

जैकी भगनानी ने भरा रकुल प्रीत की मांग में सिंदूर, फोटोज में कपल दिखा खूबसूरत

3

एनटीपीसी को प्रभावी जल प्रबंधन के लिए मान्यता मिली

4

किसान दो दिन तक नहीं करेंगे दिल्ली कूच, पर प्रदर्शन रहेगा जारी एमएसपी को लेकर आंदोलन

5

गुजरात डेयरी संघ के कार्यक्रम में पहुंचे PM MODI, AMUL को बताया लोगों का विश्वास

6

केन्द्री य वित्त मंत्री ने नई दिल्ली में एफएसडीसी की 28वीं बैठक की अध्यक्षता की

7

भारत का जनसांख्यिकीय लाभांश यूरोपीय देशों के साथ आर्थिक साझेदारी को बढ़ावा देगा

8

किसान आंदोलन के बीच मोदी सरकार का बड़ा फैसला, गन्ने पर बढ़ाई MSP

9

अंतरिक्ष क्षेत्र के संबंध में एफडीआई नीति में संशोधन को मंजूरी

10

कृषि राज्य मंत्री शोभा करंदलाजे और कनाडा के स्कॉट मो के बैठक संपन्नय हुई


ताज़ा ख़बरें

1

न्यायमूर्ति डीवाई चन्द्रचूड ने सर्वोच्च न्यायालय में आयुष केंद्र का उद्घाटन किया

2

जैकी भगनानी ने भरा रकुल प्रीत की मांग में सिंदूर, फोटोज में कपल दिखा खूबसूरत

3

एनटीपीसी को प्रभावी जल प्रबंधन के लिए मान्यता मिली

4

किसान दो दिन तक नहीं करेंगे दिल्ली कूच, पर प्रदर्शन रहेगा जारी एमएसपी को लेकर आंदोलन

5

गुजरात डेयरी संघ के कार्यक्रम में पहुंचे PM MODI, AMUL को बताया लोगों का विश्वास

6

केन्द्री य वित्त मंत्री ने नई दिल्ली में एफएसडीसी की 28वीं बैठक की अध्यक्षता की

7

भारत का जनसांख्यिकीय लाभांश यूरोपीय देशों के साथ आर्थिक साझेदारी को बढ़ावा देगा

8

किसान आंदोलन के बीच मोदी सरकार का बड़ा फैसला, गन्ने पर बढ़ाई MSP

9

अंतरिक्ष क्षेत्र के संबंध में एफडीआई नीति में संशोधन को मंजूरी

10

कृषि राज्य मंत्री शोभा करंदलाजे और कनाडा के स्कॉट मो के बैठक संपन्नय हुई