loader

लाल मूली की खेती कमाई और स्वास्थ्य दोनों के लिए लाभदायक

Radish cultivation: वैज्ञानिकों के अनुसार लाल मूली में सफेद की तुलना में लगभग 50-125 प्रतिशत अधिक एंटी ऑक्सीडेंट होते है. किसी भी फसल के साथ मेड़ पर कर सकते हैं इसकी बुआई.

fasalkranti.in
कामयाब किसान, 07 Jun, 2021, (अपडेटेड 07 Jun, 2021 08:44PM)
Radish cultivation : वैज्ञानिकों के अनुसार लाल मूली में सफेद की तुलना में लगभग 50-125 प्रतिशत अधिक एंटी ऑक्सीडेंट होते है. किसी भी फसल के साथ मेड़ पर कर सकते हैं इसकी बुआई.
भारतीय सब्जी अनुसंधान संस्थान (ICAR-Indian Institute of Vegetable Research) द्वारा विकसित लाल मूली की ओर बढ़ रहा है. क्योंकि यह सफेद मूली की तुलना में महगी बिकती है और स्वास्थ के लिए भी लाभदायक होती है. इसमें एंटी ऑक्सीडेंट की मात्रा अधिक है. आंखों की रोशनी के लिए अच्छी  होती है .यह भी दावा किया जा रहा है कि यह कैंसर पीड़ितों के लिए भी फायदेमंद है. यह विटामिन भरपूर  है जो इम्यूनिटी को मजबूत बनाती है.
अविनाश कुमार पादरी बाजार, गोरखपुर मूली की खेती करने वाले के अनुसार किसान इस मूली की खेती (Farming) से अधिक कमाई कर सकते हैं. क्योंकि यह सफेद मूली से अधिक कीमत पर बाजार में बिक रही है. यह किस्म सिर्फ 40-45 दिनों में ही तैयार हो जाती है. एक हेक्टेयर में मेड़ों पर बुवाई के लिए लगभग 8-10 किलो बीज की जरूरत पड़ती है. इसकी पत्ती सहित कुल उपज प्रति हेक्टेयर लगभग 600-700 प्रति कुंटल हो रही है. शरद ऋतु में लाल मूली (Red Radish) के लिए बलुई दोमट मिट्टी कारगर होती है. किसी भी फसल के साथ मेड़ पर इसकी बुआई कर सकते है। 
इस मूली में पेलार्गोनिडीन नामक एंथोसायनिन की उपस्थिति है जिसके कारण इसका रंग लाल होता है. स्वास्थ्य (Health) के लिए यह एक पोषक खजाना है. यह सलाद में तथा रायता को आकर्षक बनाती है. इसमें पाए जाने वाले जैव रसायन एंथोसायनिन विभिन्न रोगों से लड़ने में भी सहायक हैं
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

कामयाब किसान से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

पाठकों की पसंद