loader

रबी फसल की शुरू हुई बुआई, जिले को 4 हजार मैट्रिक टन डीएपी एवं 12 हजार मैट्रिक टन यूरिया की है आवश्यकता

बिहार के जहानाबाद जिले में रबी फसल की बुवाई शुरू हो गई है लेकिन किसानों को उनकी जरूरत के लिए डीएपी खाद नहीं मिल रहा है। खाद की किल्लत से किसान एक बार फिर परेशान हो रहे हैं। 

fasalkranti.in
समाचार, 05 Dec, 2021, (अपडेटेड 05 Dec, 2021 02:06PM)

बिहार के जहानाबाद जिले में रबी फसल की बुवाई शुरू हो गई है लेकिन किसानों को उनकी जरूरत के लिए डीएपी खाद नहीं मिल रहा है। खाद की किल्लत से किसान एक बार फिर परेशान हो रहे हैं। गौरतलब हो कि इस साल धान के सीजन में भी किसानों को यूरिया के लिए भारी फजीहतों से दो चार होना पडा था। अब रबी के बुवाई के शुरूआती दौर में ही उन्हें डीएपी के लिए फजीहत हो रही है। किसानों ने बताया कि चना- मसूर के बाद गेहूं की बुवाई शुरू हो गई है। बुवाई के दौरान डीएपी खाद खेतों में डालना जरूरी होता है जिससे पैदावार अच्छी हो सके। लेकिन इस वर्ष डीएपी खाद बाजार में नहीं मिल रहा है। किसान कस्बाई बाजार से लेकर जिला मुख्यालय के बाजार तक दौड़ लगा रहे हैं लेकिन उन्हें यूरिया के सिवा और कोई खाद नहीं मिल रहा है। 

किसानों का कहना है कि रबी फसल की बुवाई के दौरान डीएपी खाद नहीं डाला गया तो उनके फसल पर प्रतिकूल असर पड़ने के आसार दिख रहे हैं। उधर कॉपरेटिव बैंक परिसर स्थित व्यापार मंडल के गोडाउन में भी किसान चक्कर लगा रहे हैं लेकिन उन्हें वहां सिर्फ यूरिया ही मिल रहा है। डीएपी की किल्लत से किसान परेशान हैं। कृषि विभाग ने उर्वरकों की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए दिशा निर्देश जारी किया है। विभागीय आदेश में जिक्र  किया गया है कि जितनी मात्रा  में उर्वरक की प्राप्ति जिले को हो रही है, उसे उचित मूल्य पर कृषकों से बिक्री सुनिश्चित की जाए। साथ ही थोक उर्वरक विक्रेताओं को निर्देश दिया गया है कि यह सुनिश्चित कर लें कि खुदरा उर्वरक विक्रेताओं को एक से अधिक प्रखंडों से आवंटन प्राप्त नहीं हो। 

जिला कृषि पदाधिकारी सुनिल कुमार ने बताया कि रबी फसल के लिए जिले को चार हजार मैट्रिक टन डीएपी एवं 12 हजार मैट्रिक टन यूरिया के आवश्यकता है लेकिन अब तक जिले को अभी डीएपी का आवंटन नहीं मिल पाया है। इसके लिए उन्होंने संबंधित अधिकारियों से बात की है। जल्द आवंटन मिलने की आसार हैं। आवंटन मिलते ही किसानों को सुलभता से वितरण सुनिश्चित किया जाएगा।

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

समाचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

पाठकों की पसंद