loader

प्रधानमंत्री ने किया विपक्ष पर हमला और कहा विपक्ष ने सेना को हतोत्साहित करने की कसम खा रखी थी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज देहरादून में कई परियोजनाओं के लोकार्पण एवं शिलान्यास समारोह में पहुंचे।

fasalkranti.in
सोनम सिंह, समाचार, 04 Dec, 2021
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज देहरादून में कई परियोजनाओं के लोकार्पण एवं शिलान्यास समारोह में पहुंचे। प्रधानमंत्री मोदी देहरादून में 18000 करोड़ रुपये की लागत से 18 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। इन परियोजनाओं में दिल्ली-देहरादून आर्थिक गलियारा शामिल है। पीएम मोदी समारोह में कहा कि बीते 5 वर्षों में केंद्र सरकार ने उत्तराखंड के लिए 1 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा लागत से की परियोजनाएं स्वीकृत की है। उत्तराखंड की सरकार इन्हें तेजी से ज़मीन पर उतार रही है। इसी को आगे बढ़ाते हुए आज 18000 करोड़ रुपये से ज्यादा की परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया जा रहा है। ये परियोजनाएं इस दशक को उत्तराखंड का दशक बनाने में एक अहम भूमिका निभाएंगी। 
पीएम ने आगे कहा जो लोग पूछते हैं कि डबल इंजन की सरकार का फायदा क्या है वे लोग आज देख सकते हैं कि डबल इंजन की सरकार उत्तराखंड में कैसे विकास की गंगा बहा रही है। प्रधानमंत्री ने आगे कहा इस शताब्दी की शुरुआत में, अटल जी ने भारत में कनेक्टिविटी बढ़ाने का अभियान शुरू किया था। लेकिन उनके बाद 10 साल तक देश में इंफ्रास्ट्रक्चर के नाम पर घोटाले और घपले होते रहे। इससे देश का जो नुकसान हुआ उसकी भरपाई के लिए हमने दोगुनी गति से मेहनत की और आज भी कर रहे हैं। आज भारत आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर पर 100 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा के निवेश के इरादे से आगे बढ़ रहा है। प्रधानमंत्री मोदी ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि वन रैंक वन पेंशन हो, आधुनिक अस्त्र-शस्त्र हो, आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब देना हो, जैसे उन लोगों ने हर स्तर पर सेना को हतोत्साहित करने की कसम खा रखी थी। आज जो सरकार है वो दुनिया के किसी देश के दबाव में नहीं आ सकती। हम राष्ट्र प्रथम, सदैव प्रथम के मंत्र पर चलने वाले लोग हैं। 
पीएम मोदी ने कहा कि आज भारत, आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर पर 100 लाख करोड़ रुपए से अधिक के निवेश के इरादे से आगे बढ़ रहा है। आज भारत की नीति, गतिशक्ति की है, दोगुनी-तीन गुनी तेजी से काम करने की है। यानि केदार धाम के पुनर्निर्माण ने ना सिर्फ श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ाई बल्कि वहां के लोगों को रोजगार-स्वरोजगार के भी अनेकों अवसर उपलब्ध कराए हैं। पीएम मोदी ने कहा कि केदारनाथ त्रासदी से पहले, 2012 में 5 लाख 70 हजार लोगों ने दर्शन किया था। ये उस समय एक रिकॉर्ड था। जबकि कोरोना काल शुरू होने से पहले, 2019 में 10 लाख से ज्यादा लोग केदारनाथ जी के दर्शन करने पहुंचे थे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

समाचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

पाठकों की पसंद