loader

एलोवेरा की खेती कैसी की जाती  है ? जानिए एलोवेरा के फायदे

इसे हम घृतकुमारी भी कहते है, आज बाजार में एलोवेरा के मांग काफी बढ़ गई है | क्योंकि यह औषधीय पौधा होने के साथ साथ इसका उपयोग सौन्दर्य उत्पाद बनाने के लिए भी बहुतायत रूप में होता है | 

fasalkranti.in
समाचार, 27 Sep, 2021, (अपडेटेड 27 Sep, 2021 07:09PM)

एलोवेरा जेल क्या है-

इसे हम घृतकुमारी भी कहते है, आज बाजार में एलोवेरा के मांग काफी बढ़ गई है | क्योंकि यह औषधीय पौधा होने के साथ साथ इसका उपयोग सौन्दर्य उत्पाद बनाने के लिए भी बहुतायत रूप में होता है | 

एलोवेरा भले ही एक छोटा-सा पौधा है, लेकिन इसके गुण जगजाहिर हैं । इसके अनगिनत फायदों के कारण ही इसे लगभग हर घर में इस्तेमाल किया जाता है । एलोवेरा के फायदे अनेक हैं, चाहे वो स्वास्थ्य के लिए हों, त्वचा के लिए हों या बालों के लिए। 

अब बात करते है एलोवेरा की खेती  कैसे की जाती है-

इसकी खेती से यह किसान को प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष दोनों प्रकार से लाभ पहुँचाता है एवं इसकी खेती करना भी बहोत आसान है | लोग सजावट हेतु इसे अपने घर में गमलो में भी लगा कर रखते है इसके अनके नाम भी है जैसे – ग्वारपाठा,घृतकुमारी आदि | इसके पौधे की ऊंचाई एक फीट से लेकर तीन फीट तक होती है तथा इसके पत्ते की लम्बाई एक से डेढ़ फीट तक होती है | इसके कई प्रजातियाँ है जिनसे अलग अलग रोगों की दवाएँ बनती है सामान्यत इसका पौधा हल्का हरा रंग का होता है | तथा पत्तो के छोर नुकीले एवं किनारे काटेदार आकृति की होती है | इसका वैज्ञानिक नाम – बारबन्डसिस है

वैसे तो इसकी खेती सभी प्रकार की मिट्टी में की जा सकती है किन्तु ऐसी मिट्टी जिसमे थोड़ी बालू की मात्रा (लगभग 30% से 40%) हो ऐसी मिट्टी में इसकी पैदावार सबसे अधिक होती है | क्योंकि ऐसी मिट्टी में फसलों तक वायु एवं पानी आसानी से पहुँच पाती है .

एलोवेरा की खेती की निराई – गुड़ाई एवं रोगों और कीटो पर नियंत्रण –

 

वैसे तो एलोवेरा की खेती में ज्यादा समस्या नहीं होती इसकी खेती करना सरल होता है प्राम्भिक आवस्था में रोपाई के बाद इसके पौधे बढ़ने तक खेती में खरपतवार की निराई करनी चाहिए जिससे इसके पौधों पर प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ता है | जब इसके पौधे बढ़ जाते तो दोनों तरफ से उसके जड़ो में थोड़ी मिट्टी चढ़ा देनी चाहिए | इससे पौधों को सीधा रखा जा सकता है | एलोवेरा की खेती में पानी की आवश्यकता भी ज्यादा नहीं होती लेकिन गर्मी के मौसम में इसकी सिंचाई की जानी चाहिए इससे उत्पादन की मात्रा में वृद्धि होती है |ज्यादा पानी खर्च न हो इसके लिए आप सिंचाई के लिए ड्रिप जैसे सिंचाई साधनों को उपयोग में ला सकतें है | एलोवेरा में रोगों का प्रकोप भी कम ही होता है किन्तु आइये जानते है कुछ ऐसे रोगों एवं कीटो के बारे में जो की एलोवेरा की खेती को प्रभावित कर सकते है साथ ही यह भी जानेंगे की इसके लक्षण क्या होते है तथा इनके रोकथाम के लिए क्या उपाय किये जाएँ |

अब बात करते है एलोवेरा के फायदे के बारे में-

1-वजन कम करने के लिए एलोवेरा

बाहर का खाना और सही ढंग से शारीरिक क्रिया न करने से वजन बढ़ने की समस्या हो सकती है। ऐसे में अगर एलोवेरा जूस का सेवन किया जाए, तो कुछ हद तक इस परेशानी से छुटकारा मिल सकता है। इसके अलावा, यह ऊर्जा खपत को बढ़ाता है और शरीर में फैट को कुछ हद तक कम कर सकता है । 

2. कब्ज के लिए एलोवेरा

कई लोग कब्ज के लिए तरह-तरह की दवाइयां लेते हैं, जिसके दुष्प्रभाव हो सकते हैं। ऐसे में अगर प्राकृतिक चीजों का सेवन किया जाए, तो कब्ज की परेशानी से राहत मिल सकती है। हालांकि, लैक्सेटिव गुण के कारण एलोवेरा का सेवन पूरी तरह सुरक्षित है या नहीं, इस बारे में अभी और शोध की आवश्यकता है। इस बारे में एक बार डॉक्टरी सलाह भी आवश्यक है।

3. मधुमेह के लिए एलोवेरा के फायदे

घृतकुमारी आसव के लाभ की अगर बात करें तो यह डायबिटीज के लिए भी गुणकारी हो सकता है। एलोवेरा का सेवन करने से टाइप 2 डायबिटीज से ग्रस्त मरीज का ब्लड शुगर लेवल कुछ हद तक संतुलित हो सकता है।

4. पाचन क्रिया के लिए एलोवेरा

एलोवेरा के लाभ की बात करें तो यह पेट और पाचन तंत्र के लिए भी फायदेमंद हो सकता है। पाचन संबंधी समस्याओं के लिए एलोवेरा जूस का सेवन किया जा सकता है.

5. कोलेस्ट्रॉल के लिए एलोवेरा के गुण

एलोवेरा का सेवन कोलेस्ट्रॉल के लिए भी लाभकारी हो सकता है। एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, एलोवेरा के सेवन से न सिर्फ ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस कम हो सकता है, बल्कि लिवर कोलेस्ट्रॉल भी कम हो सकता है .

6. मस्तिष्क स्वास्थ्य के लिए घृतकुमारी आसव

एलोवेरा के फायदे की अगर बात की जाए तो यह मस्तिष्क स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद हो सकता है। 

7. हृदय रोग से बचाव के लिए एलोवेरा के गुण

एलोवेरा का सेवन हृदय रोग के जोखिम को कम कर सकता है। चूहों पर किए गए एक भारतीय अध्ययन से पता चला है कि एलोवेरा हृदय रोग के जोखिम खासकर डॉक्सोरूबिसिन दवा (कैंसर उपचार के लिए) के दुष्प्रभाव से होने वाली समस्याओं को कम कर सकता है। वहीं, दूसरी तरफ एलोवेरा जेल में कार्डियो प्रोटेक्टिव गुण होने की बात सामने आयी है । 

8. सूजन के लिए एलोवेरा के लाभ

एलोवेरा सूजन की परेशानी को कम करने में भी सहायक हो सकता है। दरअसल, इसमें एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण होते हैं, जिस कारण यह सूजन पर प्रभावकारी हो सकता है। 

9. गठिया के लिए घृतकुमारी के औषधीय गुण

अधिक वजन, संक्रमण, बढ़ती उम्र या अन्य कई कारणों से गठिया की बीमारी हो सकती है । ऐसे में समय रहते इस पर ध्यान देकर इसका उपचार करना जरूरी है। गठिया के उपाय की बात की जाए तो एलोवेरा लाभकारी हो सकता है। 

10. घाव भरने के लिए एलोवेरा

घाव भरने का इलाज, एलोवेरा के सबसे बड़े लाभों में से एक हो सकता है। यह फाइब्रोब्लास्ट्स (कोशिकाएं जो कोलेजन का उत्पादन करती हैं) के प्रसार में सुधार कर घाव भरने की प्रक्रिया को तेज कर सकता है

 

11. रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए एलोवेरा

बदलते मौसम के साथ कई बार लोग जल्दी बीमार हो जाते हैं। ऐसे में एलोवेरा का सेवन रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद कर सकता है। नेशनल कैंसर इंस्टिट्यूट के अनुसार, एलोवेरा इम्यून बूस्टर की तरह भी काम कर व्यक्ति को स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है 

12. त्वचा को मॉइस्चराइज करने के लिए एलोवेरा जेल के फायदे

एलोवेरा का चेहरे पर उपयोग भी लाभकारी हो सकता है। त्वचा को मॉइस्चराइज करने में भी एलोवेरा जेल फायदेमंद हो सकता है। यह त्वचा को हायड्रेट करने में और त्वचा के लिए हुमेक्टैंट यानी मॉइस्चर को बरकरार रखने में मदद कर सकता है। एलोवेरा का उपयोग मॉइस्चराइजिंग कॉस्मेटिक पदार्थों में भी किया जाता है . खासकर के रूखी त्वचा के लिए एलोवेरा जेल काफी लाभकारी हो सकता है।

13. झुर्रियों के लिए एलोवेरा जेल के फायदे

झुर्रियों के लिए लोग तरह-तरह के कॉस्मेटिक और ट्रीटमेंट का सहारा लेते हैं। ये कुछ वक्त तो असर दिखाते हैं, लेकिन आगे चलकर इनकी वजह से त्वचा पर बुरा प्रभाव भी हो सकता है। ऐसे में झुर्रियों के लिए एलोवेरा जेल एक अच्छा प्राकृतिक उपचार हो सकता है। 

14. मुंहासों के लिए एलोवेरा जेल

मुंहासों के होने का कोई वक्त नहीं होता है। हालांकि, ये ठीक तो हो जाते हैं, लेकिन कई बार अपने दाग छोड़ जाते हैं। मुंहासों के लिए लोग कई तरह के क्रीम का उपयोग करते हैं, पर कुछ ज्यादा फर्क नहीं पड़ता है। ऐसे में एलोवेरा के जेल का उपयोग लाभकारी हो सकता है, इसमें एंटी-एक्ने गुण होता है, जो मुंहासों को ठीक करने में सहायक हो सकता है । हालांकि, इस बारे में अभी और सटीक वैज्ञानिक प्रमाण की आवश्यकता है।

15. बालों के लिए एलोवेरा जेल

बालों को स्वस्थ रखने के लिए भी एलोवेरा लाभकारी हो सकता है। दरअसल, बालों को स्वस्थ रखने और झड़ने से रोकने के लिए एलोवेरा को हर्बल औषधि की तरह उपयोग किया जाता रहा है 

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

समाचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

पाठकों की पसंद