loader

मखाना के लिए सरकार कम से कम पांच लाख तक का ऋण मुहैया कराने की व्यवस्था करे

बिहार के दरभंगा जिले के अलीनगर में मखाना के जीआई टैग के नाम पर राजनीतिक नहीं बल्कि इसे शत-प्रतिशत तैयार करने वाला एवं आर्थिक रूप से कमजोर निषाद समाज के लिए बिना शर्त ऋण की व्यवस्था सरकार करे,

fasalkranti.in
समाचार, 06 Dec, 2021
बिहार के दरभंगा जिले के अलीनगर में मखाना के जीआई टैग के नाम पर राजनीतिक नहीं बल्कि इसे शत-प्रतिशत तैयार करने वाला एवं आर्थिक रूप से कमजोर निषाद समाज के लिए बिना शर्त ऋण की व्यवस्था सरकार करे, अन्यथा आने वाले समय में बडे आंदोलन के लिए निषाद समाज एकजुट हो रहा है। सहनी टोल दाथ प्राथमिक विद्यालय प्रांगण में आयोजित मखाना की दशा और दिशा के उत्थान को लेकर बैठक में गंगाराम सहनी ने कही।
उन्होंने मौके पर मौजूद लोगों से कहा कि हम आपस में अलग-अलग सोच एवं विचार के हो सकते हैं, लेकिन जब सर्वतत्व सम्पन्न मखाना की बात होती है तो हम लोग किसी भी परिस्थिति में एकजुट हैं। वहीं सरपंच रामनाथ सहनी ने कहा कि मखाना की खेती और उद्योग के लिए ऋण के साथ इसे पैक्स से जोडने का काम किया जाय। हमारा समाज दो से दस फीट तक के गहरे पानी से मखाना के दाना को समेटकर निकालने से लेकर चिलचिलाती धूप में सुखाने और 360 डिग्री की तापमान पर दो अलग-अलग समय में मखाना को भूनकर पीटने के बल पर सर्वगुण सम्पन्न आहार तैयार करते हैं।
लेकिन सरकार के स्तर से मोटी दर पर कर्ज लेने को मजबूर निषादों के लिए आज तक किसी सरकार ने कोई काम नहीं किया। केवल मखाना नाम की चर्चा कर राजनीतिक रोटी सेंकने का काम जरूर किया जाता रहा है, जो अब चलने वाला नहीं है। वहीं दशरथ सहनी, घूरन सहनी, देबू सहनी, बैजनाथ सहनी, लालटून सहनी, कैलाश सहनी और धनेश्वर सहनी सहित अन्य ने भी आवाज बुलंद करते हुए कहा कि सरकार सबसे पहले मखाना खेती एवं मखाना गृह उद्योग के लिए बिना शर्त भौतिक जांच के आधार मात्न पर कम से कम पांच लाख तक का ऋण मुहैया कराने की व्यवस्था करें। कार्यक्रम में दर्जनों लोग शामिल थे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

समाचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

पाठकों की पसंद