loader

बाढ़ प्रभावित किसानों को नि:शुल्क मिलेगा धान का बीज

बिहार के बगहा  में बाढ़ग्रस्त इलाके के किसानों को सरकार की ओर से राहत मिलेगी। बाढ़ में बर्बाद हुई धान की फसल को दोबारा रोपाई के लिए धान का बीज उपलब्ध कराया जाएगा। 

fasalkranti.in
समाचार, 22 Jul, 2021

बिहार के बगहा  में बाढ़ग्रस्त इलाके के किसानों को सरकार की ओर से राहत मिलेगी। बाढ़ में बर्बाद हुई धान की फसल को दोबारा रोपाई के लिए धान का बीज उपलब्ध कराया जाएगा। इसके लिए 59 क्विंटल धान का बीज पहुंच चुका है। इसका शीघ्र ही वितरण शुरू कराया जाएगा। इसके लिए किसानों को चिह्नित करने का काम चल रहा है। बाढ़ व बारिश के कारण नगर व प्रखंड में गन्ना, धान के साथ ही सब्जी की फसलों को काफी क्षति हुई है। 

जिससे किसानों को आने वाले समय में कई तरह की चुनौतियों का सामना करना पड सकता है। अभी तक कई खेतों में जलजमाव है। वहीं लगातार हो रही बारिश ने भी हाल बेहाल कर रखा है। जिससे खेतों से बची कुची फसल भी घरों तक पहुंच पाएगी या नहीं कहना मुश्किल है। पर, जिन किसानों के बाढ़ व बारिश के कारण फसल बर्बाद हुई है उनके लिए राहत भरी खबर है। खासकर धान वाले कृषकों के लिए। उनके लिए प्रखंड में धान का बीज प्राप्त हुआ है। जो किसानों को नि:शुल्क दिया जाएगा। 

हालांकि, इसकी भी प्रक्रिया ऑनलाइन है। जिसके माध्यम से किसानों को ओटीपी मिलेगी। ओटीपी दिखाने पर किसानों को इसका लाभ मिलेगा। जिसका वितरण एक से दो दिन में आरंभ कर दिया जाएगा। जिन किसानों के धान का बिचडा गल गया है। उन किसानों के लिए प्रखंड को अभी 58 क्विंटल 80 किलों प्रथम चरम में आवंटन प्राप्त हुआ है। विभागीय सूत्नों की मानें तो, अभी और बीज प्रखंड को प्राप्त होगा। जिससे धान के लिए परेशान किसानों को राहत मिलेगी। 

यह बीज सोना मंसूरी प्रभेद का है। जिसे लगाकर किसान अपने क्षतिग्रस्त धान की फसलों की भरपाई कर सकेंगे। बता दें कि प्रखंड का क्षेत्न कृषि आधारित क्षेत्न है। जहां लोगों के घर का खर्च, बच्चों की पढ़ाई व बिटिया की शादी तक खेती पर ही निर्भर है। वहीं गन्ना व सब्जी यहां की मुख्य नगदी फसल है। बीएओ ने कहा कि जिन किसानों के धान के बिचडे गल गए हैं। उनको अधिकतम 30 किलो तक बीज नि:शुल्क दिया जाएगा। गन्ना व सब्जी के क्षतिग्रस्त फसलों का आंकलन भी कराया जा रहा है। जिसका प्रतिवेदन तैयार कर जिला में भेजा जाएगा। 

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

समाचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

पाठकों की पसंद