loader

कैमूर में गरीबों के लिए वरदान साबित हुआ आयुष्मान भारत

बिहार के कैमूर जिले में स्वस्थ भारत की अवधारणा को मूर्तरूप देने के लिए प्रधानमंत्नी के माध्यम से 2018 के सितंबर में शुरू की गई प्रधानमंत्नी जन आरोग्य योजना का आयुष्मान भारत

fasalkranti.in
समाचार, 20 Aug, 2021, (अपडेटेड 20 Aug, 2021 11:12AM)

बिहार के कैमूर जिले में स्वस्थ भारत की अवधारणा को मूर्तरूप देने के लिए प्रधानमंत्नी के माध्यम से 2018 के सितंबर में शुरू की गई प्रधानमंत्नी जन आरोग्य योजना का आयुष्मान भारत कार्यक्रम गरीबों के लिए वरदान साबित हो रहा है। इस कार्यक्रम के अंतर्गत पांच लाख तक की राशि का नि:शुल्क इलाज कराने का लाभ देने के लिए स्वास्थ्य विभाग के द्वारा गोल्डन कार्ड बनाया जा रहा है। 

बीते सात अगस्त तक 1 लाख 22 हजार 173 परिवारों का गोल्डन कार्ड बनाने के लक्ष्य के सापेक्ष विभाग ने एक लाख पांच सौ सात लाभार्थियों का गोल्डन कार्ड बनाया है। इस कार्यक्रम के अंतर्गत जिले के कुल 4802 लाभार्थियों ने अबतक अपना इलाज कराया है। इसमें से 1941 लोगों ले सरकारी अस्पतालों व 2851 लोगों ने निजी संस्थानों में अपना नि:शुल्क इलाज कराया है। 

गोल्डन कार्ड जिला व प्रखंड स्तर पर बनाने का कार्य जारी है। जिले के मोहनियां में स्थित निजी अस्पताल रीना देवी मेमोरियल में भी आयुष्मान भारत कार्यक्रम के अंतर्गत इलाज किया जा रहा है। बिहार भवन व अन्य नियोजन कर्मकारों के भी गोल्डन कार्ड बनाए जा रहे हैं। इसकी पुष्टि आयुष्मान भारत कार्यक्रम के जिला कार्यक्र म प्रबंधक मनीषदेव ने की है।

किस प्रखंड में कितने बनाए गए गोल्डन कार्ड व कितनों का हुआ इलाज-

प्रखंड का नाम - बनाए गए गोल्डन कार्ड - कितनों का हुआ इलाज

  • अधौरा - 2878 - 129
  • भभुआ - 14862 - 764
  • भगवानपुर - 6758 - 367
  • चैनपुर - 11813 - 691
  • चांद - 8801 - 392
  • दुर्गावती - 6961 - 343
  • कुदरा - 10082 - 384
  • मोहनियां - 15122 - 648
  • नुआंव - 6765 - 283
  • रामगढ - 9740 - 417
  • रामपुर - 6725 - 384

सिविल सर्जन ने कहा कि आयुष्मान भारत कार्यक्रम का लाभ दिलाने के लिए शत-प्रतिशत गोल्डन कार्ड बनवाने का विभाग को निर्देश दिए गए है। सभी के कार्ड बन जाने के बाद उसके आधार पर इलाज में होने वाली परेशानियों की भी समीक्षा कर उसे दूर कराया जाएगा।

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

समाचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

पाठकों की पसंद